How To Improve Your Personality
अपना व्‍य​क्तित्‍व कैसे निखारें?


How To Improve Your Personalityअपना व्‍य​क्तित्‍व कैसे निखारें?

Author: Dr. Santosh Kumar Gupta डॉ. सन्तोष कुमार गुप्ता
Format: Paperback
Language: Hindi
ISBN: 9788178061788
Code: 9378A
Pages: 112
List Price: Rs. 110.00
Price: Rs. 88.00   You Save: Rs. 22.00 (20.00%)

Publisher: Unicorn Books
Usually ships within 5 days


Add to Cart

Recommend to Friend

Download as PDF






Related Books

Can Is The Word Of Power
Can Is The Word Of Power
Barendra Kumar
Rs. 225.00
Rs. 191.25
The 4-lane Expressway To Stress Management
The 4-lane Expressway To Stress Management
Ajay Shukla
Rs. 110.00
Rs. 99.00
Nuggets Of Wisdom - A Collection Of Short Stories
Nuggets Of Wisdom - A Collection Of Short Stories
J. M. Mehta
Rs. 96.00
Rs. 76.80
100 Minutes That Will Change The Way You Live !
100 Minutes That Will Change The Way You Live !
Dr. L. Prakash
Rs. 135.00
Rs. 94.50
Success Is A Journey Not A Destination
Success Is A Journey Not A Destination
Pradeep Sharma प्रदीप शर्मा
Rs. 125.00
Rs. 100.00
The Tao Of Confidence
The Tao Of Confidence
Aery Prabhakar
Rs. 96.00
Life An Odyssey
Life An Odyssey
Dr. Manish Maladkar
Rs. 150.00
Tomorrow`s Young Achievers
Tomorrow`s Young Achievers
Pushpendra Mehta
Rs. 125.00
Rs. 100.00
 


समाज में प्रत्‍येक व्‍यक्ति का अपना व्‍यक्तित्‍व होता है, जो एक–दूसरे से अलग होता है. प्रत्‍येक व्‍यक्ति अपने व्‍यक्तित्‍व से दूसरे व्‍यक्ति को प्रभावित करने की चेष्‍टा करता है. कुछ का व्‍यक्तित्‍व स्‍वत: इतना प्रभावी होता है कि वह दूसरे के व्‍यक्तित्‍व पर छा जाता है और कुछ का व्‍यक्तित्‍व आत्‍महीनता से ग्रसित होने के कारण दूसरे के समक्ष दब जाता है. ऐसे में वह पूर्ण सफल नहीं होता और अपनी आकांक्षाओं को पूर्ण नहीं कर पाता.
व्‍यक्तित्‍व क्‍या है? ‘व्‍यक्तित्‍व’ व्‍यक्ति की वेशभूषा मात्र नहीं है, अपितु वह व्‍यक्ति के रूप–रंग, चाल–ढाल, व्‍यवहार और आन्‍तरिक गुणों की सम्मिलित इकाई है, जो प्रथम दृष्टि में ही दिख जाती है, महसूस की जाती है. जो दिखते ही प्रभावित कर दे, उसका व्‍यक्तित्‍व अच्‍छा माना जाता है.
इस पुस्‍तक में लेखक ने मनोवैज्ञानिक तरीके से व्‍यक्तित्‍व को निखारने व प्रभावशाली बनाने के तरीके बताए हैं, जिन्‍हें अपनाकर आप भी अपने व्‍यक्तित्‍व में निखार लाकर उसे प्रभावशाली बना सकते हैं. अत: व्‍यक्तित्‍व में निखार लाने के लिए इस पुस्‍तक को अवश्‍य पढे.

^ Top

About the Author(s)

डॉ. संतोष कुमार गुप्‍ता शासकीय स्‍वशासी कन्‍या स्‍नातकोत्तर उत्‍कृष्‍टता महाविद्यालय, सागर में मनोविज्ञान के प्राध्‍यापक हैं. इन्‍होंने व्‍यावहारिक मनोविज्ञान में देवी अहिल्‍या विश्‍वविद्यालय, इन्‍दौर से डॉक्‍टरेट की उपाधि हासिल की है. इनके शोध को भारतीय सामाजिक अनुसंधान परिषद, नई दिल्‍ली द्वारा डॉक्‍टोरल फेलोसिप प्रदान की गई थी. इनकी पुस्‍तक ‘इलैबोरेटिव स्‍टेजिज इन एसोसियेटिव मेमोरी’, नेशनल सायकोलॉजिकल कारपोरेशन, आगरा द्वारा प्रकाशित की गई है. जिसके प्रकाशन हेतु ग्राण्‍ट–इन–एड भारतीय सामाजिक अनुसंधान परिषद, नई दिल्‍ली द्वारा प्रदान की गई है. आपने विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग, नई दिल्‍ली से वित्त पोषित लघु शोध परियोजना पर कार्य किया है. यूनिकॉर्न बुक्‍स द्वारा प्रकाशित इनकी अन्‍य कृति ‘स्‍मरण शक्ति एवं मानसिक क्षमता कैसे बढ़ाएं’ को पाठकों ने बहुत पसंद किया है.

Post   Reviews

Please Sign In to post reviews and comments about this product.

About Unicorn Books

Hide ⇓

Unicorn Books publishes an extensive range of books that are both affordable and high-quality.

^ Top